अल्फाज़ों का क्या काम

अल्फ़ाज़ों का क्या काम उल्फ़त की इस नगरी में,
बयां हो पाता इश्क़ तो तुम हमे यूं छोड़ कर ना जा पाते |

Leave a Reply

Your email address will not be published.