Khidki Zaruri hai

खिड़की जरूरी है
कुछ बाहर जा सके , कुछ अंदर आ सके
इसके लिए कम से कम एक
खिड़की जरूरी है ।
घुटन- अंधेरे के बीच हवा और रोशनी के लिए
छोटी ही सही किसी कोने मे एक
खिड़की जरूरी है ।
कैद से निकलने की जरूरत है न चाहत मुझे
बस कैद मे जिंदा रहने के लिए
खिड़की जरूरी है ।
बड़ी भीड़ है अंदर , उससे बचने के लिए
और बाहर किसी से जुड़ने के लिए
खिड़की जरूरी है।
तो बस अब ये कागज कलम ही मेरी खिड़की
कि अब इस पड़ाव पे सबसे ज्यादा
खिड़की जरूरी है।
शायद मेरी खिड़की को देख कोई मुझ जैसी
खोज ले अपनी खिड़की, कि अब सबके लिए
खिड़की जरूरी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.